कुछ दिन के मेहमान रह जायेंगे केके पाठक शिक्षक करेंगे भूख हड़ताल नीतीश को लिखी चिट्ठी

Kk pathak Latest News In Hindi

बिहार के शिक्षकों ने शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव, केके पाठक, के खिलाफ प्रदर्शन किया है। अपने असहमति व्यक्त करते हुए शिक्षकों ने शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए गए आदेशों के खिलाफ एक दिन के भूख हड़ताल का निर्णय लिया है।

बिहार में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव, केके पाठक, के आदेश के खिलाफ शिक्षकों की आक्रोश बढ़ रही है। इस कठिनाई के बीच, बिहार शिक्षक संघ ने शिक्षा विभाग के खिलाफ आंदोलन की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें:जिंदा नास्त्रेदमस ने 2024 के लिए कीं फाइनल भविष्यवाणी

यह भी पढ़ें:एक साल में 405% तक का रिटर्न देने वाले रेलवे सेक्टर के 5 टॉप स्टॉक्स

Kk pathak Latest News:बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के आह्वान पर, 20 जनवरी को राज्य के शिक्षक एक-दिवसीय भूख हड़ताल करेंगे। बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक चिट्ठी लिखकर अपने विरोध को जताया है। शिक्षक गर्दनीबाग में काली पट्टी बांधकर भूख हड़ताल करेंगे और अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करेंगे।

kk pathak latest News:मुख्यमंत्री को लिखी गई चिट्ठी में, शिक्षक संघ ने शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश को वापस लेने की मांग की है। साथ ही, बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ ने ऐच्छिक स्थानांतरण की प्रक्रिया को सुगम बनाने की भी अपील की है। उसके अलावा, शिक्षकों की सेवानिवृत्ति की आयु सीमा को 62 वर्ष तक बढ़ाने की मांग भी की गई है।

स्कूलों में 10 से अधिक शिक्षक छुट्टी पर नहीं रहेंगे:शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव, केके पाठक, ने जिलों को निर्देश दिया है कि शिक्षकों को अवकाश लेने पर रोक लगाए जाने की नीति को अमल में लाया जाए। उन्होंने सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया है कि एक समय में स्कूल में दस प्रतिशत से अधिक शिक्षकों को अवकाश स्वीकृत नहीं किया जाए। इस मामले में, जिला शिक्षा पदाधिकारी के माध्यम से स्कूल के प्रमुख को निर्देश दिया गया है कि वे एक समय में कई शिक्षकों को छुट्टी नहीं दें। इस संदर्भ में, श्री पाठक ने सभी जिलाधिकारियों और उप विकास आयुक्तों को आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ें:राज्य कर्मचारी का दर्जा के बाद बिहार के शिक्षकों की सैलरी कितनी मिलेगी

यह भी पढ़ें:बिहार लेखापाल आईटी सहायक पदों की घोषणा यहां जानिए आवश्यक बातें

माध्यमिक स्कूलों में 8.5 घंटे पढ़ाई:शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव, केके पाठक, ने अपने पत्र में “नेशनल कॉरिकुलम फ्रेमवर्क फॉर स्कूल एजुकेशन 2023” की चर्चा की है। साथ ही, उन्होंने पत्र के साथ पूरी रिपोर्ट भी भेजी है। उन्होंने बताया है कि इस फ्रेमवर्क में स्पष्टता से कहा गया है कि प्रारंभिक विद्यालयों में प्रतिदिन सवा सात घंटे और माध्यमिक-उच्च माध्यमिक स्कूलों में 8.5 घंटे की शिक्षा दी जाएगी। उन्होंने यह भी उजागर किया कि शिक्षकों को भी इसके बारे में सूचित किया जाए, क्योंकि अधिकांश को इसकी जानकारी नहीं है।

Online Chicken Delivery

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें

Sharing Is Caring: