कौन बनेगा करोड़पति सीजन-5 के विजेता सुशील को कक्षा 11वीं व 12वीं के मनोविज्ञान में 119वां व कक्षा छह से आठ में सामाजिक विज्ञान के लिए 1692वीं रैंक मिली है।

सुशील को कक्षा नवम व दशम में भी बेहतर परिणाम आने की उम्मीद है। शिक्षक बनने के लिए मनोविज्ञान विषय पर काउंसलिंग करेंगे।

सुशील ने बताया कि कौन बनेगा करोड़पति में जीत दर्ज करना एक अलग बात थी, लेकिन शिक्षक होना एक बड़ी जिम्मेदारी है।

उनका चयन मनोविज्ञान से पीएचडी के लिए बाबा साहब भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर में इसी महीने हुआ है।

याद रहे कि सुशील ने आरंभ में पश्चिमी चंपारण के चनपटिया प्रखंड में मनरेगा कार्यालय में बतौर कंप्यूटर आपरेटर काम किया। यहीं से वो केबीसी विजेता बने।

इस जीत ने उन्हें दुनिया भर में पहचान दी। फिर ग्रामीण विकास विभाग ने उन्हें अपना ब्रांड एम्बेसडर बनाया।

सुशील ने नौकरी छोड़ दी और चंपा के पौधों को लगाना शुरू किया। चंपा के साथ आगे चलकर गौरैया संरक्षण की दिशा में भी काम कर रहे हैं।

कोटवा प्रखंड के एक विद्यालय में गरीब बच्चों को शिक्षित व संस्कारित बनाने की दिशा में भी काम किया

बीपीएससी द्वारा आयोजित द्वितीय चरण के शिक्षक भर्ती परीक्षा में सफलता के बाद सुशील कुमार को मिठाई खिलाती पत्नी।

जीवन में हर कोई सफल होना चाहता है। इसके लिए उचित दिशा में प्रयास भी करता है। हमने भी किया।